Wednesday, December 21, 2011

फेस बुक का क्रेज

आजकल फेसबुक का जमाना आ गया है, लोग अब ब्लाग को विस्मृत करते जा रहे है। ब्लाग में जो विचार उभरकर आते थे वह निश्चित रुप से पठनीय हुआ करता था किन्तु आज हर कोई फेसबुक की तरफ भाग रहा है।
फेसबुक में जहां लुभावने फोटो का क्रेज है वहीं इसको ज्यादा लोगो के देखने और पढ़ने की गुंजाईश है इसलिए भी
हर किसी का रुझान फेसबुक की ओर है।खैर जो भी हो फेसबुक में फेस दिखाने के साथ ही ब्लाग को जीवित रखने
की जरुरत है। ब्लाग एक तरह से संपूर्ण डायरी की तरह से जिसे वही पढ़ सकता है जो इसके बारे में जानता है.

Monday, October 31, 2011



राज्य स्थापना का ग्यारहवां वर्ष हम मनाने जा रहे हैं, इन ग्यारह वर्षो में छत्तीसगढ़ ने क्या खोया क्या पाया. यह आज चिंतन करने की जरुरत है.जहां तक विकास की बात है तो वह राजधानी रायपुर के आसपास ही सिमट कर रह गई है.विरासत में मिली नक्सली समस्या आज सुरसा की तरह मुंह फाड़ कर खड़ी है.वादे तो रोज किए जा रहे हैं किन्तु समस्याएं जस की तस है.एक तरफ अन्ना का आंदोलन चलता है तो दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ के कई बड़े अधि...कारी रिश्वत लेते पकड़े जाते हैं, आखिर इसे क्या कहें.सारी व्यवस्था ध्वस्त होती नजर आती है.सरकार धान खरीदकरअपनी पीठ थपथपा रही है जबकि किसानों को उनकी उपज का लागत मूल्य भी नहीं िमल रहा है.गांवों की आबादी काम की तलाश में शहरों की ओर भाग रही है.सरकार के दो रुपयेकिलो चावल योजना से शहर और गावों में मजदूर संकट की स्थिति उत्पन्न हो गई है. सरकारी अस्पताल की अंतिम सांसें चल रही है और सरकार निजी अस्पतालों सारी सुविधाएं दे रही है. आकड़े समेटने के चक्कर में शिविर के माध्यम से गरीबों को सामूहिक रुप सेअंधा बना दिया जाता है सरकार जांच के नाम पर केवल लीपापोती ही करती नजर आ रही है.यह सबकुछ पाया हमने नये राज्य के ग्यारह वर्षो में
तब भी हम कहते
छत्तीसगढ़
हैं, जय

Wednesday, August 31, 2011

लोकपाल से क्या सुधरेगी व्यवस्था

अन्ना हजारे के सत्याग्रह ने जो अभूतपूर्व सफलता पाई है। वह अपने आप में एक इतिहास बन गया है। समूचे भारत में गांवों से लेकर शहरों में जो शंखनाद हुआ है. वह आशा से कहीं ज्यादा है. दरअसल यह आम आदमी कीपीड़ा है जो राजतंत्र और नौकरशाह के बीच पीस रही है. आज सरकारी तंत्र पूरी तरह मक्कारी पर उतर आयी है. काम छोटा हो या बड़ा दाम चुकाने प़ड़ते हैं.चाहे तो शासन इस पर अंकुश लगा सकता है किन्तु लगाने की किसी को चिंता ही नहीं है. महात्मा गांधी ने आजादी के पहले ही भ्रष्टाचार की कल्पना कर ली थी और उसी समय उन्होने चेताया था किन्तु उनकी बातों पर किसी ने गौर नहीं किया आज उसी की पीड़ा सारा भारत भोग रहा है. अन्ना के दबाव के आगे सरकार तो झुक जरुर गई है किन्तु क्या लोकपाल बिल संसद से पास होने के बाद भी सही ढंग से लागू हो पाएगा. इस बात पर लोग अभी भी संदेह कर रहे हैं. लोकपाल बिल पास होने से उच्च स्तर के भष्टाचार तो रुक जाएंगे किन्तु सबसे नीचे स्तर का क्या होगा. जिस तरह राजनैतिक पार्टियां यह संकल्प लेती है कि समाज के अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति को शासन की योजनाओं का लाभ मिलना चाहिए उसी तरह लोकपाल बिल में जब तक यह उल्लेख नहीं होगा कि समाज के अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति को भष्टाचार से मुक्त नहीं किया जाएगा तब तक इस बिल का कोई मायने नहीं है क्योकि आज सबसे ज्यादा पीड़ित यही वर्ग है जिसकी कहीं कोई सुनवाई नहीं होती जब तक नीचे स्तर का भष्टाचार समाप्त नहीं होगा तब तक इस आंदोलन का कोई मायने नहीं है. छोटे से छोटे काम के लिए भेंट पूजा की बनी परंपरा का अंत होना जरुरी है.
अन्ना समर्थक इस बात से खुश हो रहे हैं कि हमने सरकार को हरा दिया है . सरकार और संसद में वही लोग काबिज हैं जिनके खिलाफ यह बिल लाने की तैयारी है. क्या कोई अपने लिए फांसी का फंदा तैयार करेगा यह विचारणीय सवाल है. संसद में जब बिल पर बहस हो रही थी तब घोटालों के आरोपों में फंसे सांसद बड़ी होशियारी से सफाई देकर अपने आपको पाक साफ बताने की जुगत भीड़ा रहे थे.भारत में यदि सचमुच में जनतंत्र लाना है तो न केवल भष्टाचार बल्कि हर उस मामले में नागरिकों की जागरुकता जरुरी है जो जनहित का मामला है. आज पूरा देश मजहब,जातिवाद, आरक्षण जैसे मुद्दों पर बटा हुआ है और राजनीतिज्ञ इसी बटवारा का लाभ उठाते आ रहे हैं.जनता जर्नादन को भष्टाचार के साथ ही इन मुद्दों पर भी सचेत रहने की जरुरत है ताकि अब उनका शोषण कोई भी न कर सके.

Friday, March 18, 2011

Thursday, March 10, 2011

हिन्दी से अंग्रेज़ी में अनुवाद

aturday, February 26, 2011
Fantastic Saints

Suddenly can not believe it but this is the phenomenon in front of me, from Datia 75. Km away from village Pandkhoar Trikaalrshi the invisible power of the saint. Arrive at court with his solicitor at the time when his mind to remain Asrchyackih Pndkhoar diagnosed with the government already exists. Pndkhoar last days of the government in court fort began. He Yachkoan dozens of queries to be resolved. Court of their desire to call people and ask questions says. Solicitor is the question before the answer is written on a paper Pechi. Causes some girls to Sage but not a question in their minds. She says nothing is written on Pechi ask Baba to ask anything. Pndkhoar government told a gentleman that your wife has cancer, she believed it is true. In the same way the baby reached for the baby to a couple's second child the name that conveyed the idea of having their parent are. Similarly, given that many questions to ask, he knew the answer. Also got to see the big deal about them having the wrong idea caught there too.
In this modern age when today's new science - is showing the new duty. Then suddenly not believe such things but you got to see her the same thing to prove that any of spirituality and divine power can not deny. Pndkhoar government received power is amazing. They say they're all on the orders of Lord Hanuman. Between God and man are they in the role of lawyers. He also said they are following God's orders. Mislead people to make money or they do not have a purpose nor do they show a trick and no Avidaya Sanmohan the resort. When he is ordered Hanuman to the welfare of the people put the court. The miracle of the supernatural as a monk only Sattais year is made on sight. Now they are in Aquarius Taim. Day there looking his court which has been drawing crowds of thousands of people in Hadat. It is said that the number of Taim the Saints - Mahatma Aquarius come in, most of them are flocking in crowds Pndoakhr government tents.
 

Minibox 3 Column Blogger Template by James William at 2600 Degrees इसे अभ्युषित के अनुकूल बनाया संजीव तिवारी ने